साहित्य शिरोमणि :: जगदीश प्रसाद मण्डल

Image

साहित्य शिरोमणि श्री जगदीश प्रसाद मण्डलक जन्म मधुबनी जिलाक बेरमा नामक गाममे 1947 ई० स्व० दल्लू मंडल व स्व० मकोबती देवी घर मेँ भेल छनि। ई मैथिली जगत केर एकमात्र रविन्द्र नाथ टैगोर लिटरेचर एवार्ड सँ सम्मानित रचनाकार छथि। मात्र 2004 सँ एखन धरिक कम समयमे सबसँ बेशी पोथी लगधक सैकड़ा सँ फाजिल हिनक कृति प्रकाशित विभिन्न बिधा मेँ भेल छैक। हिनक सर्वाधिक लोकप्रिय “गामक जिनगी” लघु कथा संग्रह 2009 मेँ छपल रहैक।

हिनका बारे में प्रसिद्ध साहित्यकार गजेन्द्र ठाकुर जीक कहब छनि जे मण्डल जी शिल्पी छथि, कथ्य के तेना समेहि लै छथि जे पाठक विस्मित रहि जाइए। साहित्याकाशमे एकटा चेनहासी मोटगर पड़ैत छैक, जगदीशजी सँ पूर्व आ जगदीशजी सँ एनय, एहि दू खण्डमे मैथिली पाठित होयत । हालहिने हुनक 14 कथाक संग्रह “समय सँ पहिने चेत किसान ” पढ़लहुँ अछि। एहि पोथीक पहिल संकरण 2019 में पल्लवी प्रकाशन सँ बहरायल । जकर कीमत 251 टाका आ पृष्ट सं 104 कार्ड वोर्ड गत्ता लागल एहि पोथीक पछिला कभर पर रचनाकारक फोटो सहित परीचय छपल छैक आ पोथीक अंशतः बानगी । ISBN प्राप्त एहि पोथीकँ पाठक निर्मली बजार (सुपौल) सँ किनि कए पढ़ि सकैत छथि आ सहेज केँ रखबाक योग्य छैक।कथाक-सत्तैरमे 7वाँ क्रम पर टाइटिल कथा ”समय सँ पहिने चेत’ किसान” सजावल गेलैक। फिरंगी बी.ए. पास केने गाममे रहि अर्थ उपार्जन बाबत काश्तकारी करय चाहैत अछि, जे उद्यान मे किछु अनुभवी सँ केराक खेती बारे मे तरीका बुझय चाहैत छैक। ताहि अभिप्राय सँ ओ गामेक लाल मोहन भाय बजन्ता ओहिठाम पहुँचैत अछि। एहिमादे कथाकार लिखने छथि- “किसान परिवार मे जनम आ पालन- पोषण भेने किसानी संस्कृतियो रग-रगमे रहने किसानी वृत्तियों सँ जुड़िकए कारोबार करबाक दिशा मे मन उमर लैक।” से इशारा सँ बैसाय वक्तव्य दैत ओ अपन अनुभव सुनबय लगलैक। बैंक सँ ऋण ल’केँ केराक बगान लगोलकेँ। 2 बीघा खेत 5 सालक लेल लीजपर लेलकै आ ताहिमे बोरिंग केलकैक। दमकल किन कए सिंचाई आ सब तरदुत करैत रहलैक परंच नफा किछुटा नहिं,लोन सधबैय हेतु गामसँ पलायन केलक आ मुम्बई जा 10 बरख खटेय पड़लैक ।तेँ देख बुझि लेने सँ जल जमाव वाला खेत केरा नहिं केल जाय, जाड़ा मौसम मे नाटा किस्मक केरा रहैक जे घोघे मे अटकि गेलैक। फिरंगी कहलकैक धरफरी मेँ नहिं छी,बुझि गमि केँ डेग उठायब।तेँ सार्थक भेल ई कथा जे नव खेतिहरकेँ सब तरहेँ मार्गदर्शन करैत छैक,आउरो दोसर सब खीस्सा उपरा-उपरी छैक पाठक केँ नीक लागत से पूर्ण विश्वास अछि।
जगदीशप्रसादमण्डलक पोथी
1. गामक जिनगी (2009)
2. तरेगन (2010)
3. बजन्ता-बुझन्ता (2013)
4. शंभुदास (2013)
5. उलबा चाउर (2013)
6. अर्द्धांगिनी (2013)
7. सतभैंया पोखैर (2013)
8. गामक शकल-सूरत (2014)
9. लजबि‍जी (2014)
10. समरथाइक भूत (2014)
11. अप्‍पन-बीरान (2014)
12. बाल गोपाल (2014)
13. भकमोड़ (2013)
14. रटनी खढ़ (2014)
15. पतझाड़ (2014)
16. अपन मन अपन धन (2015)
17. उकड़ू समय (2015)
18. मधुमाछी (2015)
19. पसेनाक धरम (2015)
20. गुड़ा-खुद्दीक रोटी (2015)
21. फलहार (2015)
22. खसैत गाछ (2015)
23. एगच्छा आमक गाछ (2016)
24. शुभचिन्तक (2016)
25. गाछपर सँ खसला (2016)
26. डभियाएल गाम (2016)
27. गुलेती दास (2016)
28. मुड़ियाएल घर (2016)
29. बीरांगना (2017)
30. स्मृति शेष (2017)
31. बेटीक पैरुख (2017)
32. क्रान्तियोग (2017)
33. त्रिकालदर्शी (2017)
34. पैंतीस साल पछुआ गेलौं (2017)
35. दोहरी हाक (2018)
36. सुभिमानी जिनगी (2018)
37. देखल दिन (2018)
38. गपक पियाहुल लोक (2018)
39. दिवालीक दीप (2018)
40. अप्पन गाम (2018)
41. खिलतोड़ भूमि (2019)
42. चितवनक शिकार (2019)
43. चौरस खेतक चौरस उपज (2019)
44. समयसँ पहिने चेत किसान (2019)
45. भौक (2019)
46. गामक आशा टुटि गेल (2019)
47. पसेनाक मोल (2019)
48. कृषियोग (2020)
49. हारल चेहरा जीतल रूप (2020)
50. रहै जोकर परिवार (2020)
उपन्यास-
1. मौलाइल गाछक फूल (2009)
2. उत्थान-पतन (2009)
3. जिनगीक जीत (2009)
4. जीवन-मरण (2010)
5. जीवन संघर्ष (2010)
6. नै धाड़ैए (2013)
7. बड़की बहिन (2013)
8. ठूठ गाछ (2015)
9. इज्जत गमा इज्जत बँचेलौं (2017)
10. लहसन (2018)
11. पंगु (2018)
12.आमक गाछी (2018)

पद्य-
1. इन्द्रधनुषी अकास (2013)
2. राति-दिन (2013)
3. तीन जेठ एगारहम माघ (2013)
4. सरिता (2013)
5. गीतांजलि (2013)
6. सुखाएल पोखरि‍क जाइठ (2013)
7. सतबेध (2018)
8. चुनौती (2019)
9. रहसा चौरी (2019)
10. कामधेनु (2020)
11. मन मथन (2020)
12. अकास गंगा (2020)

नाटक/एकांकी-
1. मिथिलाक बेटी (2009)
2. कम्प्रोमाइज (2013)
3. झमेलिया बिआह (2013)
4. रत्नाकर डकैत (2013)
5. स्वयंवर (2013)
6. पंचवटी (2013)
7. कल्याणी (2017)
8. सतमाए (2017)
9. समझौता (2017)
10. तामक तमघैल (2017)
11. बीरांगना (2017)

 

Imageलालदेव कामत
नौआबाखर, घोघरडीहा
7631390761

Leave a Reply

Your email address will not be published.